गाँधी – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

देश में जिधर भी जाता हूँ,
उधर ही एक आह्वान सुनता हूँ
“जड़ता को तोड़ने के लिए
भूकम्प लाओ ।
घुप्प अँधेरे में फिर
अपनी मशाल जलाओ ।
पूरे पहाड़ हथेली पर उठाकर
पवनकुमार के समान तरजो ।
कोई तूफ़ान उठाने को
कवि, गरजो, गरजो, गरजो !”

सोचता हूँ, मैं कब गरजा था ?
जिसे लोग मेरा गर्जन समझते हैं,
वह असल में गाँधी का था,
उस गाँधी का था, जिस ने हमें जन्म दिया था ।

तब भी हम ने गाँधी के
तूफ़ान को ही देखा,
गाँधी को नहीं ।

वे तूफ़ान और गर्जन के
पीछे बसते थे ।
सच तो यह है
कि अपनी लीला में
तूफ़ान और गर्जन को
शामिल होते देख
वे हँसते थे ।

तूफ़ान मोटी नहीं,
महीन आवाज़ से उठता है ।
वह आवाज़
जो मोम के दीप के समान
एकान्त में जलती है,
और बाज नहीं,
कबूतर के चाल से चलती है ।

गाँधी तूफ़ान के पिता
और बाजों के भी बाज थे ।
क्योंकि वे नीरवताकी आवाज थे।

रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जी द्वारा अन्य रचनाएँ

  • कृष्ण की चेतावनी

  • परम्परा

  • समर शेष है 

  • परिचय

  • दिल्ली

  • झील

  • वातायन

  • समुद्र का पानी

  • ध्वज-वंदना

  • आग की भीख

  • बालिका से वधू

  • जियो जियो अय हिन्दुस्तान

  • कुंजी

  • परदेशी

  • एक पत्र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक विलुप्त कविता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आशा का दीपक (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कलम, आज उनकी जय बोल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • शक्ति और क्षमा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों

  • गीत-अगीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लेन-देन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • निराशावादी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लोहे के मर्द (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • विजयी के सदृश जियो रे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पढ़क्‍कू की सूझ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वीर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मनुष्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पर्वतारोही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • करघा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांद और कवि (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांद एक दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भगवान के डाकिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जनतन्त्र का जन्म (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • शोक की संतान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जब आग लगे… (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पक्षी और बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • राजा वसन्त वर्षा ऋतुओं की रानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरे नगपति! मेरे विशाल! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लोहे के पेड़ हरे होंगे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सिपाही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रोटी और स्वाधीनता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अवकाश वाली सभ्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • व्याल-विजय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • माध्यम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वर्ग (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कलम या कि तलवार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हमारे कृषक (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात यों कहने लगा मुझ से गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s