झील – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

मत छुओ इस झील को।
कंकड़ी मारो नहीं,
पत्तियाँ डारो नहीं,
फूल मत बोरो।
और कागज की तरी इसमें नहीं छोड़ो।

खेल में तुमको पुलक-उन्मेष होता है,
लहर बनने में सलिल को क्लेश होता है।

रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जी द्वारा अन्य रचनाएँ

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

6 thoughts on “झील – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s