झील – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

मत छुओ इस झील को।
कंकड़ी मारो नहीं,
पत्तियाँ डारो नहीं,
फूल मत बोरो।
और कागज की तरी इसमें नहीं छोड़ो।

खेल में तुमको पुलक-उन्मेष होता है,
लहर बनने में सलिल को क्लेश होता है।

रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जी द्वारा अन्य रचनाएँ

  • कृष्ण की चेतावनी

  • परम्परा

  • समर शेष है 

  • परिचय

  • दिल्ली

  • झील (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वातायन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • समुद्र का पानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ध्वज-वंदना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आग की भीख (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बालिका से वधू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जियो जियो अय हिन्दुस्तान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कुंजी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • परदेशी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक पत्र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक विलुप्त कविता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आशा का दीपक (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कलम, आज उनकी जय बोल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • शक्ति और क्षमा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गीत-अगीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लेन-देन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • निराशावादी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लोहे के मर्द (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • विजयी के सदृश जियो रे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पढ़क्‍कू की सूझ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वीर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मनुष्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पर्वतारोही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • करघा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांद और कवि (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांद एक दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भगवान के डाकिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जनतन्त्र का जन्म (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • शोक की संतान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जब आग लगे… (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पक्षी और बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • राजा वसन्त वर्षा ऋतुओं की रानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरे नगपति! मेरे विशाल! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लोहे के पेड़ हरे होंगे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सिपाही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रोटी और स्वाधीनता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अवकाश वाली सभ्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • व्याल-विजय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • माध्यम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वर्ग (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कलम या कि तलवार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हमारे कृषक (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात यों कहने लगा मुझ से गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

6 thoughts on “झील – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s