सच ये है बेकार हमें ग़म होता है  – जावेद अख़्तर

सच ये है बेकार हमें ग़म होता है
जो चाहा था दुनिया में कम होता है

ढलता सूरज फैला जंगल रस्ता गुम
हमसे पूछो कैसा आलम होता है

ग़ैरों को कब फ़ुरसत है दुख देने की
जब होता है कोई हमदम होता है

ज़ख़्म तो हमने इन आँखों से देखे हैं
लोगों से सुनते हैं मरहम होता है

ज़हन की शाख़ों पर अशआर आ जाते हैं
जब तेरी यादों का मौसम होता है
जावेद अख़्तर

जावेद अख़्तर जी की अन्य प्रसिध रचनायें 

  • मेरा आँगन मेरा पेड़ ( लावा )
  • ज़बान ( लावा )
  • कुछ शे’र (तरकश)
  • चार क़तऐ (तरकश)
  • मेरा आँगन, मेरा पेड़ (तरकश)
  • बहाना ढूँढते रहते हैं (तरकश)
  • बेघर (तरकश)
  • वो ढल रहा है (तरकश)
  • ए माँ टेरेसा (तरकश)
  • दोराहा (तरकश)
  • दुश्वारी (तरकश)
  • मुझको यक़ीं है सच कहती थीं (तरकश)
  • हम तो बचपन में भी अकेले थे (तरकश)
  • सच ये है बेकार हमें ग़म होता है (तरकश)
  • शहर के दुकाँदारो (तरकश)
  • ये तसल्ली है कि हैं नाशाद सब (तरकश)
  • दर्द के फूल भी खिलते हैं (तरकश)
  • दिल में महक रहे हैं (तरकश)
  • दुख के जंगल में फिरते हैं (तरकश)
  • हमारे शौक़ की ये इन्तहा थी (तरकश)
  • मैं और मिरी आवारगी (तरकश)
  • उलझन (तरकश)
  • जहनुमी (तरकश)
  • बीमार की रात (तरकश)
  • मै पा सका न कभी (तरकश)
  • सुबह की गोरी (तरकश)
  • मेरी दुआ है (तरकश)
  • हिज्र (तरकश)
  • मुअम्मा (तरकश)
  • आसार-ए-कदीमा (तरकश)
  • ग़म बिकते है (तरकश)
  • मेरे दिल में उतर गया (तरकश)
  • ग़म होते है (तरकश)
  • हमसे दिलचस्प कभी (तरकश)
  • ख़्वाब के गाँव में (तरकश)
  • फीका चाँद (तरकश)
  • कुछ शेर ( लावा )
  • कुछ शेर-1 ( लावा )
  • कुछ क़तऐ ( लावा )

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s