कुछ शेर  – जावेद अख़्तर

गिन गिन के सिक्के हाथ मेरा खुरदरा हुआ
जाती रही वो लम्स की नर्मी, बुरा हुआ
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
कौन-सा शे’र सुनाऊँ मैं तुम्हें, सोचता हूँ
नया मुब्हम है बहुत और पुराना मुश्किल
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
ख़ुशशकल भी है वो, ये अलग बात है, मगर
हमको ज़हीन लोग हमेशा अज़ीज़ थे
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
हमको उठना तो मुँह अँधेरे था
लेकिन इक ख़्वाब हमको घेरे था
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
सब का ख़ुशी से फ़ासला एक क़दम है
हर घर में बस एक ही कमरा कम है
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
अपनी वजहे-बरबादी सुनिये तो मज़े की है
ज़िंदगी से यूँ खेले जैसे दूसरे की है
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
इस शहर में जीने के अंदाज़ निराले हैं
होठों पे लतीफ़े हैं आवाज़ में छाले हैं
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
गली में शोर था मातम था और होता क्या
मैं घर में था मगर इस गुल में कोई सोता क्या
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
आज की दुनिया में जीने का क़रीना समझो
जो मिलें प्यार से उन लोगों को ज़ीना समझो
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
कम से कम उसको देख लेते थे
अब के सैलाब में वो पुल भी गया
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
ऐ सफ़र इतना रायगाँ तो न जा
न हो मंज़िल कहीं तो पहुँचा दे
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
लो देख लो यह इश्क़ है ये वस्ल है ये हिज़्र
अब लौट चलें आओ बहुत काम पड़ा है
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
वह शक्ल पिघली तो हर शय में ढल गयी जैसे
अजीब बात हुई है उसे भुलाने में
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
वो नहर एक क़िस्सा है दुनिया के वास्ते
फ़रहाद ने तराशा था ख़ुद को चटान पर
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
मिरे वुजूद से यूँ बेख़बर है वो जैसे
वो एक धूपघड़ी है मैं रात का पल हूँ
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
उन चराग़ों में तेल ही कम था
क्यों गिला फिर हमें हवा से रहे
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
मेरी बुनियादों में कोई टेढ़ थी
अपनी दीवारों को क्या इल्ज़ाम दूँ
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
तुम्हें भी याद नहीं और मैं भी भूल गया
वो लम्हा कितना हसीं था मगर फ़ुज़ूल गया
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
आगही से मिली है तनहाई
आ मिरी जान मुझको धोखा दे
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
रात सर पर है और सफ़र बाकी
हमको चलना ज़रा सवेरे था
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
सब हवाएँ ले गया मेरे समंदर की कोई
और मुझको एक कश्ती बादबानी दे गया
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
पहले भी कुछ लोगों ने जौ बो कर गेहूँ चाहा था
हम भी इस उम्मीद में हैं लेकिन कब ऐसा होता है
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
मेरे कुछ पल मुझको दे दो बाकी सारे दिन लोगो
तुम जैसा जैसा कहते हो सब वैसा वैसा होगा

जावेद अख़्तर

जावेद अख़्तर जी की अन्य प्रसिध रचनायें 

  • मेरा आँगन मेरा पेड़ ( लावा )
  • ज़बान ( लावा )
  • कुछ शे’र (तरकश)
  • चार क़तऐ (तरकश)
  • मेरा आँगन, मेरा पेड़ (तरकश)
  • बहाना ढूँढते रहते हैं (तरकश)
  • बेघर (तरकश)
  • वो ढल रहा है (तरकश)
  • ए माँ टेरेसा (तरकश)
  • दोराहा (तरकश)
  • दुश्वारी (तरकश)
  • मुझको यक़ीं है सच कहती थीं (तरकश)
  • हम तो बचपन में भी अकेले थे (तरकश)
  • सच ये है बेकार हमें ग़म होता है (तरकश)
  • शहर के दुकाँदारो (तरकश)
  • ये तसल्ली है कि हैं नाशाद सब (तरकश)
  • दर्द के फूल भी खिलते हैं (तरकश)
  • दिल में महक रहे हैं (तरकश)
  • दुख के जंगल में फिरते हैं (तरकश)
  • हमारे शौक़ की ये इन्तहा थी (तरकश)
  • मैं और मिरी आवारगी (तरकश)
  • उलझन (तरकश)
  • जहनुमी (तरकश)
  • बीमार की रात (तरकश)
  • मै पा सका न कभी (तरकश)
  • सुबह की गोरी (तरकश)
  • मेरी दुआ है (तरकश)
  • हिज्र (तरकश)
  • मुअम्मा (तरकश)
  • आसार-ए-कदीमा (तरकश)
  • ग़म बिकते है (तरकश)
  • मेरे दिल में उतर गया (तरकश)
  • ग़म होते है (तरकश)
  • हमसे दिलचस्प कभी (तरकश)
  • ख़्वाब के गाँव में (तरकश)
  • फीका चाँद (तरकश)
  • कुछ शेर ( लावा )
  • कुछ शेर-1 ( लावा )
  • कुछ क़तऐ ( लावा )

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s