अमर राष्ट्र – माखनलाल चतुर्वेदी

छोड़ चले, ले तेरी कुटिया,
यह लुटिया-डोरी ले अपनी,
फिर वह पापड़ नहीं बेलने;
फिर वह माल पडे न जपनी।

यह जागृति तेरी तू ले-ले,
मुझको मेरा दे-दे सपना,
तेरे शीतल सिंहासन से
सुखकर सौ युग ज्वाला तपना।

सूली का पथ ही सीखा हूँ,
सुविधा सदा बचाता आया,
मैं बलि-पथ का अंगारा हूँ,
जीवन-ज्वाल जलाता आया।

एक फूँक, मेरा अभिमत है,
फूँक चलूँ जिससे नभ जल थल,
मैं तो हूँ बलि-धारा-पन्थी,
फेंक चुका कब का गंगाजल।

इस चढ़ाव पर चढ़ न सकोगे,
इस उतार से जा न सकोगे,
तो तुम मरने का घर ढूँढ़ो,
जीवन-पथ अपना न सकोगे।

श्वेत केश?- भाई होने को-
हैं ये श्वेत पुतलियाँ बाकी,
आया था इस घर एकाकी,
जाने दो मुझको एकाकी।

अपना कृपा-दान एकत्रित
कर लो, उससे जी बहला लें,
युग की होली माँग रही है,
लाओ उसमें आग लगा दें।

मत बोलो वे रस की बातें,
रस उसका जिसकी तस्र्णाई,
रस उसका जिसने सिर सौंपा,
आगी लगा भभूत रमायी।

जिस रस में कीड़े पड़ते हों,
उस रस पर विष हँस-हँस डालो;
आओ गले लगो, ऐ साजन!
रेतो तीर, कमान सँभालो।

हाय, राष्ट्र-मन्दिर में जाकर,
तुमने पत्थर का प्रभू खोजा!
लगे माँगने जाकर रक्षा
और स्वर्ण-रूपे का बोझा?

मैं यह चला पत्थरों पर चढ़,
मेरा दिलबर वहीं मिलेगा,
फूँक जला दें सोना-चाँदी,
तभी क्रान्ति का समुन खिलेगा।

चट्टानें चिंघाड़े हँस-हँस,
सागर गरजे मस्ताना-सा,
प्रलय राग अपना भी उसमें,
गूँथ चलें ताना-बाना-सा,

बहुत हुई यह आँख-मिचौनी,
तुम्हें मुबारक यह वैतरनी,
मैं साँसों के डाँड उठाकर,
पार चला, लेकर युग-तरनी।

मेरी आँखे, मातृ-भूमि से
नक्षत्रों तक, खीचें रेखा,
मेरी पलक-पलक पर गिरता
जग के उथल-पुथल का लेखा !

मैं पहला पत्थर मन्दिर का,
अनजाना पथ जान रहा हूँ,
गूड़ँ नींव में, अपने कन्धों पर
मन्दिर अनुमान रहा हूँ।

मरण और सपनों में
होती है मेरे घर होड़ा-होड़ी,
किसकी यह मरजी-नामरजी,
किसकी यह कौड़ी-दो कौड़ी?

अमर राष्ट्र, उद्दण्ड राष्ट्र, उन्मुक्त राष्ट्र !
यह मेरी बोली
यह `सुधार’ `समझौतों’ बाली
मुझको भाती नहीं ठठोली।

मैं न सहूँगा-मुकुट और
सिंहासन ने वह मूछ मरोरी,
जाने दे, सिर, लेकर मुझको
ले सँभाल यह लोटा-डोरी !                              – माखनलाल चतुर्वेदी

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ

  • एक तुम हो

  • लड्डू ले लो

  • दीप से दीप जले

  • मैं अपने से डरती हूँ सखि

  • कैदी और कोकिला

  • कुंज कुटीरे यमुना तीरे

  • गिरि पर चढ़ते, धीरे-धीर

  • सिपाही

  • वायु

  • वरदान या अभिशाप?

  • बलि-पन्थी से

  • जवानी

  • अमर राष्ट्र

  • उपालम्भ

  • मुझे रोने दो

  • तुम मिले

  • बदरिया थम-थमकर झर री !

  • यौवन का पागलपन

  • झूला झूलै री

  • घर मेरा है?

  • तान की मरोर

  • पुष्प की अभिलाषा

  • तुम्हारा चित्र

  • दूबों के दरबार में

  • बसंत मनमाना

  • तुम मन्द चलो

  • जागना अपराध

  • यह किसका मन डोला

  • चलो छिया-छी हो अन्तर में

  • भाई, छेड़ो नही, मुझे

  • उस प्रभात, तू बात न माने

  • ऊषा के सँग, पहिन अरुणिमा

  • मधुर-मधुर कुछ गा दो मालिक

  • आज नयन के बँगले में

  • यह अमर निशानी किसकी है?

  • मचल मत, दूर-दूर, ओ मानी

  • अंजलि के फूल गिरे जाते हैं

  • क्या आकाश उतर आया है

  • कैसी है पहिचान तुम्हारी

  • नयी-नयी कोपलें

  • ये प्रकाश ने फैलाये हैं

  • फुंकरण कर, रे समय के साँप

  • संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं

  • जाड़े की साँझ

  • समय के समर्थ अश्व

  • मधुर! बादल, और बादल, और बादल

  • जीवन, यह मौलिक महमानी

  • उठ महान

  • ये वृक्षों में उगे परिन्दे

  • इस तरह ढक्कन लगाया रात ने

  • गाली में गरिमा घोल-घोल

  • प्यारे भारत देश

  • साँस के प्रश्नचिन्हों, लिखी स्वर-कथा

  • वेणु लो, गूँजे धरा

  • गंगा की विदाई

  • किरनों की शाला बन्द हो गई चुप-चुप

  • वर्षा ने आज विदाई ली

  • बोल तो किसके लिए मैं

  • ये अनाज की पूलें तेरे काँधें झूलें

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s