दीप से दीप जले – माखनलाल चतुर्वेदी

सुलग-सुलग री जोत दीप से दीप मिलें
कर-कंकण बज उठे, भूमि पर प्राण फलें।

लक्ष्मी खेतों फली अटल वीराने में
लक्ष्मी बँट-बँट बढ़ती आने-जाने में
लक्ष्मी का आगमन अँधेरी रातों में
लक्ष्मी श्रम के साथ घात-प्रतिघातों में
लक्ष्मी सर्जन हुआ
कमल के फूलों में
लक्ष्मी-पूजन सजे नवीन दुकूलों में।।

गिरि, वन, नद-सागर, भू-नर्तन तेरा नित्य विहार
सतत मानवी की अँगुलियों तेरा हो शृंगार
मानव की गति, मानव की धृति, मानव की कृति ढाल
सदा स्वेद-कण के मोती से चमके मेरा भाल
शकट चले जलयान चले
गतिमान गगन के गान
तू मिहनत से झर-झर पड़ती, गढ़ती नित्य विहान।।

उषा महावर तुझे लगाती, संध्या शोभा वारे
रानी रजनी पल-पल दीपक से आरती उतारे,
सिर बोकर, सिर ऊँचा कर-कर, सिर हथेलियों लेकर
गान और बलिदान किए मानव-अर्चना सँजोकर
भवन-भवन तेरा मंदिर है
स्वर है श्रम की वाणी
राज रही है कालरात्रि को उज्ज्वल कर कल्याणी।।

वह नवांत आ गए खेत से सूख गया है पानी
खेतों की बरसन कि गगन की बरसन किए पुरानी
सजा रहे हैं फुलझड़ियों से जादू करके खेल
आज हुआ श्रम-सीकर के घर हमसे उनसे मेल।
तू ही जगत की जय है,
तू है बुद्धिमयी वरदात्री
तू धात्री, तू भू-नव गात्री, सूझ-बूझ निर्मात्री।।

युग के दीप नए मानव, मानवी ढलें
सुलग-सुलग री जोत! दीप से दीप जलें।                                      

                            – माखनलाल चतुर्वेदी

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ

  • एक तुम हो

  • लड्डू ले लो

  • दीप से दीप जले

  • मैं अपने से डरती हूँ सखि

  • कैदी और कोकिला

  • कुंज कुटीरे यमुना तीरे

  • गिरि पर चढ़ते, धीरे-धीर

  • सिपाही

  • वायु

  • वरदान या अभिशाप?

  • बलि-पन्थी से

  • जवानी

  • अमर राष्ट्र

  • उपालम्भ

  • मुझे रोने दो

  • तुम मिले

  • बदरिया थम-थमकर झर री !

  • यौवन का पागलपन

  • झूला झूलै री

  • घर मेरा है?

  • तान की मरोर

  • पुष्प की अभिलाषा

  • तुम्हारा चित्र

  • दूबों के दरबार में

  • बसंत मनमाना

  • तुम मन्द चलो

  • जागना अपराध

  • यह किसका मन डोला

  • चलो छिया-छी हो अन्तर में

  • भाई, छेड़ो नही, मुझे

  • उस प्रभात, तू बात न माने

  • ऊषा के सँग, पहिन अरुणिमा

  • मधुर-मधुर कुछ गा दो मालिक

  • आज नयन के बँगले में

  • यह अमर निशानी किसकी है?

  • मचल मत, दूर-दूर, ओ मानी

  • अंजलि के फूल गिरे जाते हैं

  • क्या आकाश उतर आया है

  • कैसी है पहिचान तुम्हारी

  • नयी-नयी कोपलें

  • ये प्रकाश ने फैलाये हैं

  • फुंकरण कर, रे समय के साँप

  • संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं

  • जाड़े की साँझ

  • समय के समर्थ अश्व

  • मधुर! बादल, और बादल, और बादल

  • जीवन, यह मौलिक महमानी

  • उठ महान

  • ये वृक्षों में उगे परिन्दे

  • इस तरह ढक्कन लगाया रात ने

  • गाली में गरिमा घोल-घोल

  • प्यारे भारत देश

  • साँस के प्रश्नचिन्हों, लिखी स्वर-कथा

  • वेणु लो, गूँजे धरा

  • गंगा की विदाई

  • किरनों की शाला बन्द हो गई चुप-चुप

  • वर्षा ने आज विदाई ली

  • बोल तो किसके लिए मैं

  • ये अनाज की पूलें तेरे काँधें झूलें

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s