जग के उर्वर-आँगन में – सुमित्रानंदन पंत

जग के उर्वर-आँगन में
बरसो ज्योतिर्मय जीवन!
बरसो लघु-लघु तृण, तरु पर
हे चिर-अव्यय, चिर-नूतन!

बरसो कुसुमों में मधु बन,
प्राणों में अमर प्रणय-धन;
स्मिति-स्वप्न अधर-पलकों में,
उर-अंगों में सुख-यौवन!

छू-छू जग के मृत रज-कण
कर दो तृण-तरु में चेतन,
मृन्मरण बाँध दो जग का,
दे प्राणों का आलिंगन!

बरसो सुख बन, सुखमा बन,
बरसो जग-जीवन के घन!
दिशि-दिशि में औ’ पल-पल में
बरसो संसृति के सावन!

                          – सुमित्रानंदन पंत

सुमित्रानंदन पंत की अन्य प्रसिध रचनाएँ 

  • पल्लव

  • वसंत श्री

  • मोह

  • विनय

  • झर पड़ता जीवन डाली से

  • याचना

  • मौन-निमन्त्रण

  • परिवर्तन

  • जीवन-यान (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • नक्षत्र (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • बादल (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • खोलो मुख से घूँघट (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • प्रथम रश्मि

  • अनुभूति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अमर स्पर्श (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • यह धरती कितना देती है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मछुए का गीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • श्री सूर्यकांत त्रिपाठी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • प्रार्थना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सांध्य वंदना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लहरों का गीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • घंटा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वायु के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • महात्मा जी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गंगा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • विजय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आ: धरती कितना देती है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चींटी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • खोलो, मुख से घूँघट (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • द्वाभा के एकाकी प्रेमी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सन्ध्या (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तितली (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ताज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मानव (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अँधियाली घाटी में (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मिट्टी का गहरा अंधकार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ग्राम श्री (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • छोड़ द्रुमों की मृदु छाया (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • काले बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पर्वत प्रदेश में पावस (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वसंत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • संध्‍या के बाद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जग जीवन में जो चिर महान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारतमाता ग्रामवासिनी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पन्द्रह अगस्त उन्नीस सौ सैंतालीस (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नौका-विहार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गृहकाज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांदनी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तप रे! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ताज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • द्रुत झरो (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दो लड़के (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धेनुएँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नहान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गंगा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चमारों का नाच (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कहारों का रुद्र नृत्य (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारतमाता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चरख़ा गीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • राष्ट्र गान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ग्राम देवता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • खिड़की से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रेखा चित्र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दिवा स्वप्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सौन्दर्य कला (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वीट पी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कला के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्त्री (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आधुनिका (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मज़दूरनी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • द्वन्द्व प्रणय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • १९४० (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सूत्रधार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • संस्कृति का प्रश्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सांस्कृतिक हृदय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारत ग्राम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वप्न और सत्य (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अहिंसा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पतझर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • उद्बोधन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नव इंद्रिय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कवि किसान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वाणी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आँगन से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गुलदावदी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आत्मा का चिर-धन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आजाद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं सबसे छोटी होऊँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वे आँखें (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बाँध दिए क्यों प्राण (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पाषाण खंड (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीना अपने ही में (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बाल प्रश्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • फैली खेतों में दूर तलक मखमल की कोमल हरियाली (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह जीवन का बूढ़ा पंजर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धरती का आँगन इठलाता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आओ, हम अपना मन टोवें (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जय जन भारत जन मन अभिमत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सोनजुही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धूप का टुकड़ा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

    हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

16 thoughts on “जग के उर्वर-आँगन में – सुमित्रानंदन पंत

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s