संध्‍या के बाद – सुमित्रानंदन पंत

सिमटा पंख साँझ की लाली
जा बैठी तरू अब शिखरों पर
ताम्रपर्ण पीपल से, शतमुख
झरते चंचल स्‍वर्णिम निझर!
ज्‍योति स्‍थंभ-सा धँस सरिता में
सूर्य क्षितीज पर होता ओझल
बृहद जिह्म ओझल केंचुल-सा
लगता चितकबरा गंगाजल!
धूपछाँह के रंग की रेती
अनिल ऊर्मियों से सर्पांकित
नील लहरियों में लोरित
पीला जल रजत जलद से बिंबित!
सिकता, सलिल, समीर सदा से,
स्‍नेह पाश में बँधे समुज्‍ज्‍वल,
अनिल पीघलकर सलि‍ल, सलिल
ज्‍यों गति द्रव खो बन गया लवोपल
शंख घट बज गया मंदिर में
लहरों में होता कंपन,
दीप शीखा-सा ज्‍वलित कलश
नभ में उठकर करता निराजन!
तट पर बगुलों-सी वृद्धाएँ
विधवाएँ जप ध्‍यान में मगन,
मंथर धारा में बहता
जिनका अदृश्‍य, गति अंतर-रोदन!
दूर तमस रेखाओं सी,
उड़ती पंखों सी-गति चित्रित
सोन खगों की पाँति
आर्द्र ध्‍वनि से निरव नभ करती मुखरित!
स्‍वर्ण चूर्ण-सी उड़ती गोरज
किरणों की बादल-सी जलकर,
सनन् तीर-सा जाता नभ में
ज्‍योतित पंखों कंठों का स्‍वर!
लौटे खग, गायें घर लौटीं
लौटे कृषक श्रांत श्‍लथ डग धर
छिपे गृह में म्‍लान चराचर
छाया भी हो गई अगोचर,
लौट पैंठ से व्‍यापारी भी
जाते घर, उस पार नाव पर,
ऊँटों, घोड़ों के संग बैठे
खाली बोरों पर, हुक्‍का भर!
जोड़ों की सुनी द्वभा में,
झूल रही निशि छाया छाया गहरी,
डूब रहे निष्‍प्रभ विषाद में
खेत, बाग, गृह, तरू, तट लहरी!
बिरहा गाते गाड़ी वाले,
भूँक-भूँकर लड़ते कूकर,
हुआँ-हुआँ करते सियार,
देते विषण्‍ण निशि बेला को स्‍वर!

माली की मँड़इ से उठ,
नभ के नीचे नभ-सी धूमाली
मंद पवन में तिरती
नीली रेशम की-सी हलकी जाली!
बत्‍ती जल दुकानों में
बैठे सब कस्‍बे के व्‍यापारी,
मौन मंद आभा में
हिम की ऊँध रही लंबी अधियारी!
धुआँ अधिक देती है
टिन की ढबरी, कम करती उजियाली,
मन से कढ़ अवसाद श्रांति
आँखों के आगे बुनती जाला!
छोटी-सी बस्‍ती के भीतर
लेन-देन के थोथे सपने
दीपक के मंडल में मिलकर
मँडराते घिर सुख-दुख अपने!
कँप-कँप उठते लौ के संग
कातर उर क्रंदन, मूक निराशा,
क्षीण ज्‍योति ने चुपके ज्‍यों
गोपन मन को दे दी हो भाषा!
लीन हो गई क्षण में बस्‍ती,
मिली खपरे के घर आँगन,
भूल गए लाला अपनी सुधी,
भूल गया सब ब्‍याज, मूलधन!
सकूची-सी परचून किराने की ढेरी
लग रही ही तुच्‍छतर,
इस निरव प्रदोष में आकुल
उमड़ रहा अंतर जग बाहर!
अनुभव करता लाला का मन,
छोटी हस्‍ती का सस्‍तापन,
जाग उठा उसमें मानव,
औ’ असफल जीवन का उत्‍पीड़न!
दैन्‍य दुख अपमाल ग्‍लानि
चिर क्षुधित पिपासा, मृत अभिलाषा,
बिना आय की क्‍लांति बनी रही
उसके जीवन की परिभाषा!
जड़ अनाज के ढेर सदृश ही
वह दीन-भर बैठा गद्दी पर
बात-बात पर झूठ बोलता
कौड़ी-सी स्‍पर्धा में मर-मर!
फिर भी क्‍या कुटुंब पलता है?
रहते स्‍वच्‍छ सुधर सब परिजन?
बना पा रहा वह पक्‍का घर?
मन में सुख है? जुटता है धन?
खिसक गई कंधों में कथड़ी
ठिठुर रहा अब सर्दी से तन,
सोच रहा बस्‍ती का बनिया
घोर विवशता का कारण!
शहरी बनियों-सा वह भी उठ
क्‍यों बन जाता नहीं महाजन?
रोक दिए हैं किसने उसकी
जीवन उन्‍नती के सब साधन?
यह क्‍यों संभव नहीं
व्‍यवस्‍था में जग की कुछ हो परिवर्तन?
कर्म और गुण के समान ही
सकल आय-व्‍याय का हो वितरण?
घुसे घरौंदे में मि के
अपनी-अपनी सोच रहे जन,
क्‍या ऐसा कुछ नहीं,
फूँक दे जो सबमें सामूहिक जीवन?
मिलकर जन निर्माण करे जग,
मिलकर भोग करें जीवन करे जीवन का,
जन विमुक्‍त हो जन-शोषण से,
हो समाज अधिकारी धन का?
दरिद्रता पापों की जननी,
मिटे जनों के पाप, ताप, भय,
सुंदर हो अधिवास, वसन, तन,
पशु पर मानव की हो जय?
वक्ति नहीं, जग की परिपाटी
दोषी जन के दु:ख क्‍लेश की
जन का श्रम जन में बँट जाए,
प्रजा सुखी हो देश देश की!
टूट गया वह स्‍वप्‍न वणिक का,
आई जब बुढि़या बेचारी,
आध-पाव आटा लेने
लो, लाला ने फिर डंडी मारी!
चीख उठा घुघ्‍घू डालों में
लोगों ने पट दिए द्वार पर,
निगल रहा बस्‍ती को धीरे,
गाढ़ अलस निद्रा का अजगर!

                          – सुमित्रानंदनपंत

काव्यशालाद्वाराप्रकाशितसुमित्रानंदनपंतजीकीरचनाएँ 

  • पल्लव

  • वसंतश्री

  • मोह

  • विनय

  • झरपड़ताजीवनडालीसे

  • याचना

  • मौननिमन्त्रण

  • परिवर्तन

  • प्रथमरश्मि

  • अनुभूति

  • अमरस्पर्श

  • यहधरतीकितनादेतीहै

  • मछुएकागीत

  • श्रीसूर्यकांतत्रिपाठीकेप्रति

  • प्रार्थना

  • सांध्यवंदना

  • लहरोंकागीत

  • घंटा

  • वायुकेप्रति

  • याद

  • गंगा

  • विजय

  • चींटी

  • खोलो, मुखसेघूँघट

  • द्वाभा के एकाकी प्रेमी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सन्ध्या (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तितली (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ताज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मानव (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • महात्मा जी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अँधियाली घाटी में (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मिट्टी का गहरा अंधकार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ग्राम श्री (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • छोड़ द्रुमों की मृदु छाया (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • काले बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पर्वत प्रदेश में पावस (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वसंत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • संध्‍या के बाद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जग जीवन में जो चिर महान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारतमाता ग्रामवासिनी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पन्द्रह अगस्त उन्नीस सौ सैंतालीस (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नौका-विहार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गृहकाज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चांदनी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तप रे! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ताज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • द्रुत झरो (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दो लड़के (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धेनुएँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नहान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चमारों का नाच (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कहारों का रुद्र नृत्य (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चरख़ा गीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • राष्ट्र गान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ग्राम देवता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • खिड़की से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रेखा चित्र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दिवा स्वप्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सौन्दर्य कला (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वीट पी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कला के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्त्री (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आधुनिका (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मज़दूरनी के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • द्वन्द्व प्रणय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • १९४० (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सूत्रधार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • संस्कृति का प्रश्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सांस्कृतिक हृदय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • भारत ग्राम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वप्न और सत्य (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अहिंसा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पतझर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • उद्बोधन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नव इंद्रिय (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कवि किसान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वाणी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आँगन से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गुलदावदी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आत्मा का चिर-धन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आजाद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं सबसे छोटी होऊँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वे आँखें (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बाँध दिए क्यों प्राण (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पाषाण खंड (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीना अपने ही में (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बाल प्रश्न (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • फैली खेतों में दूर तलक मखमल की कोमल हरियाली (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह जीवन का बूढ़ा पंजर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धरती का आँगन इठलाता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आओ, हम अपना मन टोवें (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बापू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जय जन भारत जन मन अभिमत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सोनजुही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धूप का टुकड़ा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीवन-यान (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • नक्षत्र (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

  • बादल (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

हिंदीबुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s