कविता का फास्ट फूड – ज्ञान प्रकाश सिंह

शीघ्रता की साधना, असिद्ध करती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।

विश्वअंतर्जाल रचना जब से हुई है अवतरित,
सूचना तकनीक तब से हो रही है विस्तारित।
विश्व होता जा रहा है विश्वव्यापी जाल शासित,
संबंधों की दृढ़ता को तय कर रहा है ‘लाइक’।
हृदयगत सम्वेदना अब दूर होती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।

सोशल मीडिया, अनसोशल होता जा रहा है,
उस पर अराजकता का राज होता जा रहा है।
सामाजिक संजाल से हो रहा जीवन प्रभावित,
लोग घटिया सोच वाले कर रहे हैं इसे दूषित।
जीवन से नैतिकता तिरोहित होती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।

ऊपर से आकर्षक लगता है सामाजिक नेट,
किन्तु इसकी भीतरी दशा की है उल्टी गति।
अज्ञानी भी धड़ल्ले से बहसबाजी करता है,
अपनी सड़ी गली सोच की, शेखी बघारता है।
शालीनता की सीमा अब नष्ट होती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।

साहित्य अधिक सबसे नेट पर हुआ प्रभावित,
चलताऊ लिखने वाला,बना आला साहित्यिक।
फास्ट फूड कविता का, नेट पर परोसता है,
बतौर महान कृति, कचरा पोस्ट करता है।
गंभीरता की महत्ता अब मंद होती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।
तथापि, इंटरनेट का पक्ष उज्जवल भी प्रचुर हैं,
पहले जो दुर्लभ था, मिलता एक क्लिक पर है।
अब विश्वअंतर्जाल की, अवहेलना सम्भव नहीं,
दोष मानसिकता का है,इंटरनेट का दोष नहीं।
सोच परिष्कृत करें जो विकृत होती जा रही है,
धैर्य की अवधारणा अब लुप्त होती जा रही है।

                                       – ज्ञान प्रकाश सिंह

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित ज्ञान प्रकाश सिंह जी की अन्य रचनाएँ

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

One thought on “कविता का फास्ट फूड – ज्ञान प्रकाश सिंह

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s