रात आधी, खींच कर मेरी हथेली – हरिवंशराय बच्चन

रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था ‘प्यार’ तुमने।

फ़ासला था कुछ हमारे बिस्तरों में
और चारों ओर दुनिया सो रही थी,
तारिकाएँ ही गगन की जानती हैं
जो दशा दिल की तुम्हारे हो रही थी,
मैं तुम्हारे पास होकर दूर तुमसे

अधजगा-सा और अधसोया हुआ सा,
रात आधी खींच कर मेरी हथेली
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था ‘प्यार’ तुमने।

एक बिजली छू गई, सहसा जगा मैं,
कृष्णपक्षी चाँद निकला था गगन में,
इस तरह करवट पड़ी थी तुम कि आँसू
बह रहे थे इस नयन से उस नयन में,

मैं लगा दूँ आग इस संसार में है
प्यार जिसमें इस तरह असमर्थ कातर,
जानती हो, उस समय क्या कर गुज़रने
के लिए था कर दिया तैयार तुमने!
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था ‘प्यार’ तुमने।

प्रात ही की ओर को है रात चलती
औ’ उजाले में अंधेरा डूब जाता,
मंच ही पूरा बदलता कौन ऐसी,
खूबियों के साथ परदे को उठाता,

एक चेहरा-सा लगा तुमने लिया था,
और मैंने था उतारा एक चेहरा,
वो निशा का स्वप्न मेरा था कि अपने पर
ग़ज़ब का था किया अधिकार तुमने।
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था ‘प्यार’ तुमने।

और उतने फ़ासले पर आज तक सौ
यत्न करके भी न आये फिर कभी हम,
फिर न आया वक्त वैसा, फिर न मौका
उस तरह का, फिर न लौटा चाँद निर्मम,

और अपनी वेदना मैं क्या बताऊँ,
क्या नहीं ये पंक्तियाँ खुद बोलती हैं–
बुझ नहीं पाया अभी तक उस समय जो
रख दिया था हाथ पर अंगार तुमने।
रात आधी, खींच कर मेरी हथेली एक उंगली से लिखा था ‘प्यार’ तुमने।

हरिवंशराय बच्चन जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ

  • मधुशाला

  • कोशिश करने वालों की हार नहीं होती 

  • तीर पर कैसे रुकूँ मैं

  • अग्निपथ

  • जो बीत गयी सो बात गयी

  • चल मरदाने

  • हम ऐसे आज़ाद हमारा झंडा है बादल

  • कोई पार नदी के गाता

  • क्या है मेरी बारी में

  • लो दिन बीता लो रात गयी

  • क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

  • ऐसे मैं मन बहलाता हूँ

  • आत्‍मपरिचय

  • मैं कल रात नहीं रोया था

  • नीड का निर्माण

  • त्राहि त्राहि कर उठता जीवन

  • इतने मत उन्‍मत्‍त बनो

  • स्वप्न था मेरा भयंकर

  • तुम तूफान समझ पाओगे 

  • रात आधी खींच कर मेरी हथेली (शीघ्र प्रकाशित होगी

  • मेघदूत के प्रति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • साथी, साँझ लगी अब होने! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गीत मेरे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लहर सागर का श्रृंगार नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आ रही रवि की सवारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चिडिया और चुरूंगुन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पतझड़ की शाम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • राष्ट्रिय ध्वज (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • साजन आ‌ए, सावन आया (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • प्रतीक्षा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आदर्श प्रेम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आज फिर से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आत्मदीप (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आज़ादी का गीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बहुत दिनों पर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एकांत-संगीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ड्राइंग रूम में मरता हुआ गुलाब (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • इस पार उस पार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जाओ कल्पित साथी मन के (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कवि की वासना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • किस कर में यह वीणा धर दूँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • को‌ई गाता मैं सो जाता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • साथी, सब कुछ सहना होगा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जुगनू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कहते हैं तारे गाते हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कोई पार नदी के गाता (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्या भूलूं क्या याद करूँ मैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरा संबल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मुझसे चांद कहा करता है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • पथ की पहचान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • साथी साथ ना देगा दुख भी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • यात्रा और यात्री (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • युग की उदासी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आज मुझसे बोल बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • साथी सो ना कर कुछ बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तब रोक ना पाया मैं आंसू (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तुम गा दो मेरा गान अमर हो जाये (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आज तुम मेरे लिये हो (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मनुष्य की मूर्ति (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • उस पार न जाने क्या होगा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रीढ़ की हड्डी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हिंया नहीं कोऊ हमार! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक और जंज़ीर तड़कती है, भारत माँ की जय बोलो (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीवन का दिन बीत चुका था छाई थी जीवन की रात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हो गयी मौन बुलबुले-हिंद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गर्म लोहा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • टूटा हुआ इंसान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मौन और शब्द (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • शहीद की माँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क़दम बढाने वाले: कलम चलाने वाले (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक नया अनुभव (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दो पीढियाँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्यों जीता हूँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कौन मिलनातुर नहीं है ? (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है? (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्यों पैदा किया था? (शीघ्र प्रकाशित होगी)

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

21 thoughts on “रात आधी, खींच कर मेरी हथेली – हरिवंशराय बच्चन

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s