वसंत श्री – सुमित्रानंदन पंत

यह कविता सुमित्रानंदन पंत की की कविता संग्रह पल्लव से ली गयी है। इस संग्रह की अन्य कविताओं के लिए पढ़ें पल्लव ।

उस फैली हरियाली में,
कौन अकेली खेल रही मा!
वह अपनी वय-बाली में?
सजा हृदय की थाली में–

क्रीड़ा, कौतूहल, कोमलता,
मोद, मधुरिमा, हास, विलास,
लीला, विस्मय, अस्फुटता, भय,
स्नेह, पुलक, सुख, सरल-हुलास!
ऊषा की मृदु-लाली में–
किसका पूजन करती पल पल
बाल-चपलता से अपनी?
मृदु-कोमलता से वह अपनी,
सहज-सरलता से अपनी?
मधुऋतु की तरु-डाली में–

रूप, रंग, रज, सुरभि, मधुर-मधु,
भर कर मुकुलित अंगों में
मा! क्या तुम्हें रिझाती है वह?
खिल खिल बाल-उमंगों में,
हिल मिल हृदय-तरंगों में!

सुमित्रानंदन पंत

सुमित्रानंदन पंत की अन्य प्रसिध रचनाएँ 

  • पल्लव
  • वसंत श्री
  • मोह
  • विनय
  • झर पड़ता जीवन डाली से (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • याचना (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • मौन निमंत्रण (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • परिवर्तन (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • जीवन-यान (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • नक्षत्र (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • बादल (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • खोलो मुख से घूँघट (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

 

Advertisements

23 thoughts on “वसंत श्री – सुमित्रानंदन पंत

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s