आग न जलने देना – रमानाथ अवस्थी

जो आग जला दे भारत की ऊँचाई,
वह आग न जलने देना मेरे भाई ।

तू पूरब का हो या पश्चिम का वासी
तेरे दिल में हो काबा या हो काशी
तू संसारी हो चाहे हो संन्यासी
तू चाहे कुछ भी हो पर भूल नहीं
तू सब कुछ पीछे पहले भारतवासी ।

उन सबकी नज़रें आज हमीं पर ठहरीं
जिनके बलिदानों से आज़ादी आई ।

जो आग जला दे भारत की ऊँचाई,
वह आग न जलने देना मेरे भाई ।

तू महलों में हो या हो मैदानों में
तू आसमान में हो या तहखानों में
पर तेरा भी हिस्सा है बलिदानों में
यदि तुझमें धड़कन नहीं देश के दुख की
तो तेरी गिनती होगी हैवानों में ।

मत भूल कि तेरे ज्ञान सूर्य ने ही तो
दुनिया के अँधियारे को राह दिखाई ।

जो आग जला दे भारत की ऊँचाई,
वह आग न जलने देना मेरे भाई ।

तेरे पुरखों की जादू भरी कहानी
गौतम से लेकर गाँधी तक की वाणी
गंगा जमना का निर्मल-निर्मल पानी
इन सब पर कोई आँच न आने पाए
सुन ले खेतों के राजा, घर की रानी ।

भारत का भाल दिनों-दिन जग में चमके
अर्पित है मेरी श्रद्धा और सचाई ।

जो आग जला दे भारत की ऊँचाई,
वह आग न जलने देना मेरे भाई ।

आज़ादी डरी-डरी है आँखें खोलो
आत्मा के बल को फिर से आज टटोलो
दुश्मन को मारो, उससे मत कुछ बोलो
स्वाधीन देश के जीवन में अब फिर से
अपराजित शोणित की रंगत को घोलो ।

युग-युग के साथी और देश के प्रहरी
नगराज हिमालय ने आवाज़ लगाई ।

जो आग जला दे भारत की ऊँचाई,
वह आग न जलने देना मेरे भाई ।

                                          –  रमानाथ अवस्थी

रमानाथ अवस्थी जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ

  • बजी कहीं शहनाई सारी रात

  • करूँ क्या

  • वे दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • उस समय भी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बुलावा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ऐसी तो कोई बात नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सौ बातों की एक बात है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हम-तुम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरी रचना के अर्थ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मन चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सदा बरसने वाला मेघ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरे पंख कट गए हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सो न सका (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लाचारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अंधेरे का सफ़र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद बन-बनकर गगन पर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • असम्भव (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • इन्सान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कभी कभी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चंदन गंध (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चुप रहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात की बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जाना है दूर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जिसे कुछ नहीं चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह आग न जलने देना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद तुम्हारी आई सारी रात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह एक दर्पण चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s