देख तो दिल कि जाँ से उठता है – मीर तकी “मीर”

देख तो दिल कि जाँ से उठता है ये धुआं सा कहाँ से उठता है गोर किस दिल-जले की है ये फलक शोला इक सुबह याँ से उठता है खाना-ऐ-दिल से ज़िन्हार न जा कोई ऐसे मकान से उठता है

गम रहा जब तक कि दम में दम रहा – मीर तकी “मीर”

ग़म रहा जब तक कि दम में दम रहा दिल के जाने का निहायत ग़म रहा  दिल न पहुँचा गोशा-ए-दामन तलक क़तरा-ए-ख़ूँ था मिज़्हा पे जम रहा

अश्क आंखों में कब नहीं आता – मीर तकी “मीर”

अश्क आंखों में कब नहीं आता  लहू आता है जब नहीं आता

इब्तिदा-ऐ-इश्क है रोता है क्या – मीर तकी “मीर”

इब्तिदा-ऐ-इश्क है रोता है क्या आगे आगे देखिये होता है क्या

बेखुदी कहाँ ले गई हमको – मीर तकी “मीर”

बेखुदी कहाँ ले गई हमको, देर से इंतज़ार है अपना

फ़क़ीराना आए सदा कर चले – मीर तकी “मीर”

फ़क़ीराना आए सदा कर चले मियाँ खुश रहो हम दुआ कर चले

हस्ती अपनी हुबाब की सी है – मीर तकी “मीर”

हस्ती अपनी हुबाब की सी है । ये नुमाइश सराब की सी है ।। 

अपने तड़पने की मैं तदबीर पहले कर लूँ – मीर तकी “मीर”

अपने तड़पने की मैं तदबीर पहले कर लूँ तब फ़िक्र मैं करूँगा ज़ख़्मों को भी रफू का।

बेखुदी ले गयी – मीर तकी “मीर”

बेखुदी ले गयी कहाँ हम को देर से इंतज़ार है अपना रोते फिरते हैं सारी-सारी रात अब यही रोज़गार है अपना

कहा मैंने – मीर तकी “मीर”

कहा मैंने कितना है गुल का सबात कली ने यह सुनकर तब्बसुम किया जिगर ही में एक क़तरा खूं है सरकश पलक तक गया तो तलातुम किया