मन – रमानाथ अवस्थी

मन को वश में करो
फिर चाहे जो करो ।

कर्ता तो और है
रहता हर ठौर है
वह सबके साथ है
दूर नहीं पास है
तुम उसका ध्यान धरो ।
फिर चाहे जो करो ।

सोच मत बीते को
हार मत जीते को
गगन कब झुकता है
समय कब रुकता है
समय से मत लड़ो ।
फिर चाहे जो करो ।

रात वाला सपना
सवेरे कब अपना
रोज़ यह होता है
व्यर्थ क्यों रोता है
डर के मत मरो ।
फिर चाहे जो करो ।

                                          –  रमानाथ अवस्थी

रमानाथ अवस्थी जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ

  • बजी कहीं शहनाई सारी रात

  • करूँ क्या

  • वे दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • उस समय भी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बुलावा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ऐसी तो कोई बात नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सौ बातों की एक बात है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हम-तुम (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरी रचना के अर्थ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मन चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सदा बरसने वाला मेघ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरे पंख कट गए हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सो न सका (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • लाचारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अंधेरे का सफ़र (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद बन-बनकर गगन पर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • असम्भव (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • इन्सान (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कभी कभी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चंदन गंध (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • चुप रहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रात की बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जाना है दूर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जिसे कुछ नहीं चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह आग न जलने देना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • याद तुम्हारी आई सारी रात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वह एक दर्पण चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s