वे दिन – रमानाथ अवस्थी

याद आते हैं फिर बहुत वे दिन
जो बड़ी मुश्किलों से बीते थे !

शाम अक्सर ही ठहर जाती थी
देर तक साथ गुनगुनाती थी !
हम बहुत ख़ुश थे, ख़ुशी के बिन भी
चाँदनी रात भर जगाती थी !
हमको मालूम है कि हम कैसे
आग को ओस जैसे पीते थे !
घर के होते हुए भी बेघर थे
रात हो, दिन हो, बस, हमीं भर थे !
डूब जाते थे मेघ भी जिसमें
हम उसी प्यास के समन्दर थे !
उन दिनों मरने की न थी फ़ुरसत,
हम तो कुछ इस तरह से जीते थे !
आते-जाते जो लोग मिलते थे
उनके मिलने में फूल खिलते थे !
ज़िन्दगी गंगा जैसी निर्मल थी,
जिसमें हम नाव जैसे चलते थे !
गंगा की ऊँची-नीची लहरों से
हम कभी आगे कभी पीछे थे !
कोई मौसम हो हम उदास न थे
तंग रहते थे, पर निराश न थे !
हमको अपना बना के छोड़े जो
हम किसी ऐसे दिल के पास न थे !
फूल यादों के जल गए कब के
हमने जो आँसुओं से सींचे थे ।?

                                          –  रमानाथ अवस्थी

रमानाथ अवस्थी जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ

  • बजी कहीं शहनाई सारी रात
  • करूँ क्या
  • वे दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • उस समय भी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • बुलावा (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • ऐसी तो कोई बात नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सौ बातों की एक बात है (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • हम-तुम (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मेरी रचना के अर्थ (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मन चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सदा बरसने वाला मेघ (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मेरे पंख कट गए हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सो न सका (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • लाचारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • अंधेरे का सफ़र (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • याद बन-बनकर गगन पर (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • असम्भव (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • इन्सान (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • कभी कभी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चंदन गंध (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चुप रहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • रात की बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जाना है दूर (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जिसे कुछ नहीं चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वह आग न जलने देना (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • याद तुम्हारी आई सारी रात (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वह एक दर्पण चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s