बीती विभावरी जाग री – जयशंकर प्रसाद

बीती विभावरी जाग री!

अम्बर पनघट में डुबो रही
तारा-घट ऊषा नागरी!

खग-कुल कुल-कुल-सा बोल रहा
किसलय का अंचल डोल रहा
लो यह लतिका भी भर ला‌ई-
मधु मुकुल नवल रस गागरी

अधरों में राग अमंद पिए
अलकों में मलयज बंद किए
तू अब तक सो‌ई है आली
आँखों में भरे विहाग री!

                         – जयशंकर प्रसाद 

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ 

  • चित्राधार

  • आह ! वेदना मिली विदाई

  • बीती विभावरी जाग री

  • दो बूँदें

  • प्रयाणगीत

  • तुम कनक किरन

  • भारत महिमा

  • अरुण यह मधुमय देश हमारा

  • आत्‍मकथ्‍य

  • सब जीवन बीता जाता है

  • हिमाद्रि तुंग शृंग से

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s