काहू जोगीकी नजर लागी है – सूरदास

काहू जोगीकी नजर लागी है मेरो कुंवर । कन्हिया रोवे ॥ध्रु०॥ घर घर हात दिखावे जशोदा दूध पीवे नहि सोवे । 

Advertisements

मधुरीसी बेन बजायके – सूरदास

मधुरीसी बेन बजायके । मेरो मन मोह्यो सांवरा ॥ध्रु०॥ मेरे आंगनमें बांसको बेडलो सिंचो मन चित्त लायके ।  अब तो बेरण भई बासरी मोहन मुखपर आयके ॥सां०॥१॥ मैं जल जमुना भरन जातरी मारग रोक्यो आयके । 

जमुनाके तीर बन्सरी बजावे कानो – सूरदास

जमुनाके तीर बन्सरी बजावे कानो ॥ज०॥ध्रु०॥ बन्सीके नाद थंभ्यो जमुनाको नीर खग मृग।  धेनु मोहि कोकिला अनें किर ॥बं०॥१॥ सुरनर मुनि मोह्या रागसो गंभीर । 

हमसे छल कीनो काना नेनवा लगायके – सूरदास

हमसे छल कीनो काना नेनवा लगायके  जमुनाजलमें जीपें गेंद डारी कालि नागनाथ लाये ।  इंद्रको गुमान हर्यो गोवरधन धारके  मोर मुगुट बांधे काली कामरी खांदे । 

सावरे मोकु रंगमें बोरी बोरी – सूरदास

सावरे मोकु रंगमें बोरी बोरी सांवरे मोकुं रंगमें बोरी बोरी बहीयां पकर कर शीरकी गागरिया । छिन गागर ढोरी । रंगमें रस बस मोकूं किनी । डारी गुलालनकी झोरी । गावत लागे मुखसे होरी आयो अचानक मिले मंदिरमें । देखत नवल किशोरी । धरी भूजा मोकुं पकरी जीवनने बलजोरे । माला मोतियनकी तोरी तब मोरे जोर कछु न चालो । बात कठीन सुनाई

दरसन बिना तरसत मोरी अखियां – सूरदास

दरसन बिना तरसत मोरी अखियां  तुमी पिया मोही छांड सीधारे फरकन लागी छतिया  बस्ति छाड उज्जड किनी व्याकुल भई सब सखियां  सूरदास कहे प्रभु तुमारे मिलनकूं ज्युजलंती मुख बतिया 

नेननमें लागि रहै – सूरदास

नेननमें लागि रहै गोपाळ नेननमें ॥ध्रु०॥ मैं जमुना जल भरन जात रही भर लाई जंजाल ॥१॥ रुनक झुनक पग नेपुर बाजे चाल चलत गजराज ॥२॥ जमुनाके नीर तीर धेनु चरावे संग लखो लिये ग्वाल ॥३॥ बिन देखे मोही कल न परत है निसदिन रहत बिहाल ॥४॥ लोक लाज कुलकी मरजादा निपट भ्रमका जाल ॥५॥

देखो माई हलधर गिरधर जोरी – सूरदास

देखो माई हलधर गिरधर जोरी ॥ हलधर हल मुसल कलधारे गिरधर छत्र धरोरी ॥१॥ हलधर ओढे पित पितांबर गिरधर पीत पिछोरी॥२॥ हलधर केहे मेरी कारी कामरी गीरधरने ली चोरी॥३॥ सूरदास प्रभुकी छबि निरखे भाग बडे जीन कोरी॥४॥

नेक चलो नंदरानी उहां लगी – सूरदास

नेक चलो नंदरानी उहां लगी नेक चलो नंदारानी ॥ देखो आपने सुतकी करनी दूध मिलावत पानी ॥ हमरे शिरकी नयी चुनरिया ले गोरसमें सानी ॥ हमरे उनके करन बाद है हम देखावत जबानी ॥

ऐसे भक्ति मोहे भावे उद्धवजी – सूरदास

ऐसे भक्ति मोहे भावे उद्धवजी ऐसी भक्ति ।  सरवस त्याग मगन होय नाचे जनम करम गुन गावे ॥  कथनी कथे निरंतर मेरी चरन कमल चित लावे ॥  मुख मुरली नयन जलधारा करसे ताल बजावे ॥