आह! वेदना मिली विदाई – जयशंकर प्रसाद

आह! वेदना मिली विदाई मैंने भ्रमवश जीवन संचित, मधुकरियों की भीख लुटाई छलछल थे संध्या के श्रमकण आँसू-से गिरते थे प्रतिक्षण मेरी यात्रा पर लेती थी नीरवता अनंत अँगड़ाई

चित्राधार – जयशंकर प्रसाद

पुन्य औ पाप न जान्यो जात। सब तेरे ही काज करत है और न उन्हे सिरात ॥ सखा होय सुभ सीख देत कोउ काहू को मन लाय। सो तुमरोही काज सँवारत ताकों बड़ो बनाय॥ भारत सिंह शिकारी बन-बन मृगया को आमोद। सरल जीव की रक्षा तिनसे होत तिहारे गोद॥ स्वारथ औ परमारथ सबही तेरी स्वारथ मीत। तब इतनी टेढी भृकुटी क्यों? देहु चरण में प्रीत॥