रामधारी सिंह ‘दिनकर’

Ramdhari_Singh_'Dinkar'कवि परिचय

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (23 सितंबर 1908- 24 अप्रैल 1974) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। बिहार प्रान्त के बेगुसराय जिले का सिमरिया घाट उनकी जन्मस्थली है। उन्होंने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था। ‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है। उर्वशी को भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार जबकि कुरुक्षेत्र को विश्व के 100 सर्वश्रेष्ठ काव्यों में 74वाँ स्थान दिया गया।

रचना संग्रह

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ  (पढ़ने के लिए लिंक पर जाएँ)

  • कृष्ण की चेतावनी
  • परम्परा
  • समर शेष है 
  • परिचय
  • दिल्ली (कविता) (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • झील (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वातायन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • समुद्र का पानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • ध्वज-वंदना (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • आग की भीख (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • बालिका से वधू (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जियो जियो अय हिन्दुस्तान (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • कुंजी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • परदेशी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • एक पत्र (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • एक विलुप्त कविता (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • आशा का दीपक (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • कलम, आज उनकी जय बोल (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • शक्ति और क्षमा (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • हो कहाँ अग्निधर्मा नवीन ऋषियों (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • गीत-अगीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • लेन-देन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • निराशावादी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • लोहे के मर्द (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • विजयी के सदृश जियो रे (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • पढ़क्‍कू की सूझ (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वीर (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मनुष्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • पर्वतारोही (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • करघा (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चांद और कवि (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चांद एक दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • भारत (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • भगवान के डाकिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जनतन्त्र का जन्म (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • शोक की संतान (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जब आग लगे… (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • पक्षी और बादल (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • राजा वसन्त वर्षा ऋतुओं की रानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मेरे नगपति! मेरे विशाल! (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • लोहे के पेड़ हरे होंगे (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सिपाही (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • रोटी और स्वाधीनता (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • अवकाश वाली सभ्यता (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • व्याल-विजय (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • माध्यम (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • स्वर्ग (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • गाँधी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • कलम या कि तलवार (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • हमारे कृषक (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • रात यों कहने लगा मुझ से गगन का चाँद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ 


रश्मीरथि – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

परशुराम की प्रतीक्षा – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

संस्कृति के चार अध्याय – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

उर्वशी – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

हुंकार – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रेणुका – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

नए सुभाषित – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

धूप छाँह – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

भग्न वीना – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

अमृत मंथन – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

श्री अरविंद मेरी दृष्टि में – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

चिंतन के आयाम – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रसवन्ती – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

सामधेनी – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

पंत, प्रसाद और मैथिलीशरण – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

सपनो का धुआँ – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

संस्कृति, भाषा और राष्ट्र – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

मिट्टी की ओर – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

कवि और कविता – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

समानांतर – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

संकलित निबंध – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

प॰ नेहरु और अन्य महापुरुष – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रश्मीलोक – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

कविता और शुद्ध कविता – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

व्यक्तिगत निबंध और डायरी – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

दिनकर रचनावली – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

नील कुसुम – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

स्मरणांजलि – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

चक्रवाल – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

बापू –
रामधारी सिंह ‘दिनकर’

काव्य की भूमिका – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

सहित्य और समाज – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

कुरुक्षेत्र – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रश्मिमाला – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

उजली आग – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

रामधारी सिंह दिनकर की रचनाएँ का अंग्रेज़ी भाषा में अनुवाद


The Battle Royale – Ramdhari Singh ‘Dinkar’

Garland of Rays –
B.N. Mishra (Translator)
Samaanantar – B.N. Mishra (Translator)
Broken Lute – B.N. Mishra (Translator)

Charioteer of Rays – B.N. Singh (Translator)

Urvashi – B.N. Singh (Translator)

Kurukshetra (English) – Adeshwara Rao (Translator)
Advertisements