खुमार बाराबंकवी

Khumar_Barabankavi.gifकवि परिचय

खुमार बाराबंकवी (1919-1999) उर्दू शायर और उत्तरप्रदेश, बाराबंकी के थे। उनका असली नाम मोहम्मद हैदर खान था, यह शब्द अरबी के ‘खम’ से आता है जिसका अर्थ है शराब का मर्तबान।खुमारा बाराबंकवी (1919-1999) उर्दू शायर और उत्तरप्रदेश, बाराबंकी के थे। उनका असली नाम मोहम्मद हैदर खान था, यह शब्द अरबी के ‘खम’ से आता है जिसका अर्थ है शराब का मर्तबान।
उन्होंने ख़ुमार के तख़ल्लुस (कलम नाम) के तहत लिखा, जिसका अर्थ है नशा। उनका जन्म 20 सितंबर 1919 को बाराबंकी, उत्तर प्रदेश में हुआ था। बचपन में उन्होंने अपने परिवार में काव्यात्मक वातावरण पाया। उनके पिता डॉ गुलाम हैदर ने कलम नाम ‘बहार’ के तहत सलमान और मारीसियां ​​लिखीं। उनके चाचा ‘करारा बारबंकवी’ बाराबंकी के एक प्रसिद्ध कवि थे जिन्होंने युवा खुमार का मार्गदर्शन किया और उनकी कविता को इस्लाह (सुधार) किया। उनके भाई काजीम हैदर ‘निगर’ जो कम उम्र में चल बसे, वे भी कवि थे। खुमार एक बुद्धिमान छात्र थे और कई विषयों में अच्छे अंको के साथ सरकारी कॉलेज बाराबंकी से अपने उच्च विद्यालय उत्तीर्ण हुए थे। इसके बाद वह अपनी मध्यवर्ती कक्षाओं के लिए लखनऊ गए जहां उनके जीवन में एक रोमांटिक मोड़ ने उन्हें शिक्षा छोड़ने और कविता शुरू करने के लिए प्रेरित किया। खुमार बारबंकवी की एक मधुर आवाज़ थी और जल्द ही मुशाएरों में लोकप्रिय हो गये । वह जिगर मुरादाबादी से भी परिचित हुए और एक लंबे समय के लिए उनके साथ मिलकर बने रहे। उनकी गज़लों और आवाज़ ने उन्हें मुशाएरों में पसंदीदा बनाया और विश्व की प्रसिद्धि का एक शय बन गया । जिगर मुरादाबादी और खुमार बारबंकवी अपने कविता के साथ किसी भी मुशाएरे की सफलता की गारंटी के साथ ही उनकी मधुर आवाज़ और पाठ की शैली की गारंटी के लिए जाने जाते थे। खुमार जिगर मोरादाबाद की तरह शास्त्रीय ग़ज़ल एक प्रबल समर्थक थे। हालांकि उन्हें उर्दू शायरी में प्रगतिशील आंदोलन के समर्थकों से आलोचनाओं का सामना करना पड़ा लेकिन वे शास्त्रीय ग़ज़ल के पक्ष में खड़े हुए। खूमार ने हिंदी फिल्मों जैसे शाहजहां, बारदारी, ‘साज और आवाज़’, के. आसिफ आदि द्वारा निर्देशित लव एंड गॉड (1986) के लिए कुछ प्रसिद्ध गीत लिखे हैं। खुमार 1999 में निधन हो गया ।

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ

  • एक पल में एक सदी का मज़ा

  • दुनिया के ज़ोर प्यार के दिन

  • ये मिसरा नहीं है

  • कभी शेर-ओ-नगमा बनके

  • वो हमें जिस कदर आज़मा रहे है

  • वो जो आए हयात याद आई (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तेरे दर से उठकर (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • न हारा है इश्क और न दुनिया थकी है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सुना है वो हमें भुलाने लगे है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • झुंझलाए है लजाए है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • रुख़्सत-ए-शबाब (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वो खफा है तो कोई बात नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दिल को तस्कीन-ए-यार ले डूबी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आँसूगदी से इश्क-ए-जवाँ को बचाइए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ऐ मौत उन्हें भुलाए ज़माने गुज़र गये (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तस्वीर बनाता हूँ तस्वीर नहीं बनती (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • एक पल में एक सदी का मज़ा हमसे पूछिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हाल-ए-गम उन को सुनाते जाइए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हुस्न जब मेहरबान हो तो क्या कीजिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हिज्र की शब है और उजाला है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ऐसा नहीं कि उन से मोहब्बत नहीं रही (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्या हुआ हुस्न हमसफ़र है या नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मुझ को शिकस्ते दिल का मज़ा याद आ गया (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • गमे-दुनिया बहुत इज़ारशाँ है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अकेले हैं वो और झुंझला रहे हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बुझ गया दिल हयात बाकी है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वो सवा याद आये भुलाने के बाद (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • हम उन्हें वो हमें भुला बैठे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

शायरी ई-बुक्स ( Shayari eBooks)static_728x90

Advertisements