वो कभी धूप कभी छाँव लगे – कैफ़ि आज़मी

वो कभी धूप कभी छाँव लगे ।
मुझे क्या-क्या न मेरा गाँव लगे ।

किसी पीपल के तले जा बैठे
अब भी अपना जो कोई दाँव लगे ।

एक रोटी के त’अक्कुब[1] में चला हूँ इतना
की मेरा पाँव किसी और ही का पाँव लगे ।

रोटि-रोज़ी की तलब जिसको कुचल देती है
उसकी ललकार भी एक सहमी हुई म्याँव लगे ।

जैसे देहात में लू लगती है चरवाहों को
बम्बई में यूँ ही तारों की हँसी छाँव लगे ।

– कैफ़ि आज़मी

शब्दार्थ : 1. पीछा करना

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित रचनाएँ

कैफी के कुछ प्रमुख फिल्मी गीत

    • मैं ये सोच के उसके दर से उठा था।..(हकीकत)

    • है कली-कली के रुख पर तेरे हुस्न का फसाना…(लालारूख)

    • वक्त ने किया क्या हसीं सितम… (कागज के फूल)

    • इक जुर्म करके हमने चाहा था मुस्कुराना… (शमा)

    • जीत ही लेंगे बाजी हम तुम… (शोला और शबनम)

    • तुम पूछते हो इश्क भला है कि नहीं है।.. (नकली नवाब)

    • राह बनी खुद मंजिल… (कोहरा)

    • सारा मोरा कजरा चुराया तूने… (दो दिल)

    • बहारों…मेरा जीवन भी सँवारो… (आखिरी khत)

    • धीरे-धीरे मचल ए दिल-ए-बेकरार… (अनुपमा)

    • या दिल की सुनो दुनिया वालों… (अनुपमा)

    • मिलो न तुम तो हम घबराए… (हीर-रांझा)

    • ये दुनिया ये महफिल… (हीर-रांझा)

    • जरा सी आहट होती है तो दिल पूछता है।.. (हकीकत)

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s