ज़िंदगी – ज्ञान प्रकाश सिंह

ज़िंदगी की उलझनों में यों न गुज़रा कीजिये,
चंद लम्हे लुत्फ़-ए-क़ुदरत-ए-नज़ारा लीजिये।

उन्हें भी साँस लेने को थोड़ी जगह तो दीजिये,
हसरत-ए-दिल का गिरीबाँ यों न मसला कीजिये।

इस भरी दुनिया में केवल ग़म ही ग़म नहीं है,
जिगर के आँसुओं से गुलशन को सींचा कीजिये।

सुना नहीं पाए ग़म-ए-दिल आरज़ू उनको अगर,
दिल की ख़्वाहिशों को हँस कर भुलाया कीजिये।

रातों को नींद नहीं आती दिल बेक़रार रहता है,
उजाले में बैठ कर कुछ लम्हे बिताया कीजिये।

                                       – ज्ञान प्रकाश सिंह

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित ज्ञान प्रकाश सिंह जी की अन्य रचनाएँ

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s