मधुर-मधुर मेरे दीपक – महादेवी वर्मा

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल!
युग-युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल
प्रियतम का पथ आलोकित कर!

सौरभ फैला विपुल धूप बन
मृदुल मोम-सा घुल रे, मृदु-तन!
दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित,
तेरे जीवन का अणु गल-गल
पुलक-पुलक मेरे दीपक जल!

तारे शीतल कोमल नूतन
माँग रहे तुझसे ज्वाला कण;
विश्व-शलभ सिर धुन कहता मैं
हाय, न जल पाया तुझमें मिल!
सिहर-सिहर मेरे दीपक जल!

जलते नभ में देख असंख्यक
स्नेह-हीन नित कितने दीपक
जलमय सागर का उर जलता;
विद्युत ले घिरता है बादल!
विहँस-विहँस मेरे दीपक जल!

द्रुम के अंग हरित कोमलतम
ज्वाला को करते हृदयंगम
वसुधा के जड़ अन्तर में भी
बन्दी है तापों की हलचल;
बिखर-बिखर मेरे दीपक जल!

मेरे निस्वासों से द्रुततर,
सुभग न तू बुझने का भय कर।
मैं अंचल की ओट किये हूँ!
अपनी मृदु पलकों से चंचल
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

सीमा ही लघुता का बन्धन
है अनादि तू मत घड़ियाँ गिन
मैं दृग के अक्षय कोषों से-
तुझमें भरती हूँ आँसू-जल!
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

तुम असीम तेरा प्रकाश चिर
खेलेंगे नव खेल निरन्तर,
तम के अणु-अणु में विद्युत-सा
अमिट चित्र अंकित करता चल,
सरल-सरल मेरे दीपक जल!

तू जल-जल जितना होता क्षय;
यह समीप आता छलनामय;
मधुर मिलन में मिट जाना तू
उसकी उज्जवल स्मित में घुल खिल!
मदिर-मदिर मेरे दीपक जल!
प्रियतम का पथ आलोकित कर!

महादेवी वर्मा 

महादेवी वर्मा की अन्य प्रसिध रचनाए

  • अलि, मैं कण-कण को जान चली

  • जब यह दीप थके

  • पूछता क्यों शेष कितनी रात? 

  • मंदिर का दीप

  • जो तुम आ जाते एक बार

  • कौन तुम मेरे हृदय में (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मिटने का अधिकार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मधुर-मधुर मेरे दीपक जल! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जाने किस जीवन की सुधि ले (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • नीर भरी दुख की बदली (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तेरी सुधि बिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तुम मुझमें प्रिय, फिर परिचय क्या! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जाग तुझको दूर जाना (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं प्रिय पहचानी नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीवन विरह का जलजात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं बनी मधुमास आली! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मधुर-मधुर मेरे दीपक जल! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बताता जा रे अभिमानी! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मेरा सजल मुख देख लेते! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं नीर भरी दुख की बदली! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • प्रिय चिरन्तन है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अश्रु यह पानी नहीं है (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • स्वप्न से किसने जगाया? (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • धूप सा तन दीप सी मैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • मैं अनंत पथ में लिखती जो (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जो मुखरित कर जाती थीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्यों इन तारों को उलझाते? (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • वे मधुदिन जिनकी स्मृतियों की (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अलि अब सपने की बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सजनि कौन तम में परिचित सा (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्या जलने की रीत (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • किसी का दीप निष्ठुर हूँ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तम में बनकर दीप (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • जीवन दीप (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दीपक अब रजनी जाती रे (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • सजनि दीपक बार ले (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • अधिकार (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • क्या पूजन क्या अर्चन रे! (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • फूल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • दीप मेरे जल अकम्पित (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • बया हमारी चिड़िया रानी (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • तितली से (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • ठाकुर जी भोले हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • कोयल (शीघ्र प्रकाशित होगी)

  • आओ प्यारे तारो आओ (शीघ्र प्रकाशित होगी)

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

One thought on “मधुर-मधुर मेरे दीपक – महादेवी वर्मा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s