बजी कहीं शहनाई सारी रात – रमानाथ अवस्थी

सो न सका कल याद तुम्हारी आई सारी रात
और पास ही बजी कहीं शहनाई सारी रात

मेरे बहुत चाहने पर भी नींद न मुझ तक आई
ज़हर भरी जादूगरनी-सी मुझको लगी जुन्हाई
मेरा मस्तक सहला कर बोली मुझसे पुरवाई
दूर कहीं दो आँखें भर-भर आई सारी रात
और पास ही बजी कहीं शहनाई सारी रात

गगन बीच रुक तनिक चन्द्रमा लगा मुझे समझाने
मनचाहा मन पा लेना है खेल नहीं दीवाने
और उसी क्षण टूटा नभ से एक नखत अनजाने
देख जिसे तबियत मेरी घबराई सारी रात
और पास ही बजी कहीं शहनाई सारी रात

रात लगी कहने सो जाओ देखो कोई सपना
जग ने देखा है बहुतों का रोना और तड़पना
यहाँ तुम्हारा क्या, कोई भी नहीं किसी का अपना
समझ अकेला मौत मुझे ललचाई सारी रात
और पास ही बजी कहीं शहनाई सारी रात

मुझे सुलाने की कोशिश में जागे अनगिन तारे
लेकिन बाज़ी जीत गया मैं वे सबके सब हारे
जाते-जाते चाँद कह गया मुझसे बड़े सकारे
एक कली मुरझाने को मुसकाई सारी रात
और पास ही बजी कहीं शहनाई सारी रात

                                          –  रमानाथ अवस्थी

रमानाथ अवस्थी जी की अन्य प्रसिध रचनाएँ

  • बजी कहीं शहनाई सारी रात
  • करूँ क्या (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वे दिन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • उस समय भी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • बुलावा (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • ऐसी तो कोई बात नहीं (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सौ बातों की एक बात है (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • हम-तुम (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मेरी रचना के अर्थ (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मन चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सदा बरसने वाला मेघ (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मेरे पंख कट गए हैं (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • सो न सका (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • लाचारी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • अंधेरे का सफ़र (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • याद बन-बनकर गगन पर (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • असम्भव (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • इन्सान (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • कभी कभी (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चंदन गंध (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • चुप रहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • मन (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • रात की बात (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जाना है दूर (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • जिसे कुछ नहीं चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वह आग न जलने देना (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • याद तुम्हारी आई सारी रात (शीघ्र प्रकाशित होगी)
  • वह एक दर्पण चाहिए (शीघ्र प्रकाशित होगी)

 

हिंदी ई-बुक्स (Hindi eBooks)static_728x90

 

Advertisements

10 thoughts on “बजी कहीं शहनाई सारी रात – रमानाथ अवस्थी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s