मधुकर ! तब तुम गुंजन करना –  ज्ञान प्रकाश सिंह

भँवरा ! ये दिन कठिन हैं  पर फिर वसंत ऋतु आएगी,
नवकुसुम खिलेंगे उपवन में, नवगीत कोकिला गाएगी।

किसलय लता उमंगित होगी, कानन होगा मोहक हर्षित,
भू अंचल पट लहराएगा , पवन सुवासित  मंद प्रवाहित।

डाली डाली मुकुलित होगी , मकरंद युक्त सरसिज होंगे
मादक आकर्षक मधु स्वरुप, उद्यान पुष्प सुरभित होंगे।

ऋतुराज आगमन का संदेश, जब सुमन बाटिका लाएगी
मधुकर ! तब तुम गुंजन करना, चिरअभिलाषा पूरी होगी।

– ज्ञान प्रकाश सिंह

 यह कविता लेखक श्री ज्ञान प्रकाश सिंह की पुस्तक ‘स्पर्श” से ली गयी है । पूरी पुस्तक ख़रीदने हेतु निकटतम पुस्तक भंडार जायें । भारती  प्रकाशन  मूल्य रु 200 /-

काव्यशाला द्वारा प्रकाशित ज्ञान प्रकाश सिंह जी की अन्य रचनाएँ

Advertisements

4 thoughts on “मधुकर ! तब तुम गुंजन करना –  ज्ञान प्रकाश सिंह

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s