मोह – सुमित्रानंदन पंत

यह कविता सुमित्रानंदन पंत की की कविता संग्रह पल्लव से ली गयी है। इस संग्रह की अन्य कविताओं के लिए पढ़ें पल्लव ।

छोड़ द्रुमों की मृदु-छाया,
तोड़ प्रकृति से भी माया,
बाले! तेरे बाल-जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन?
भूल अभी से इस जग को!
तज कर तरल-तरंगों को,
इन्द्र-धनुष के रंगों को,
तेरे भ्रू-भंगों से कैसे बिंधवा दूँ निज मृग-सा मन?
भूल अभी से इस जग को!
कोयल का वह कोमल-बोल,
मधुकर की वीणा अनमोल,
कह, तब तेरे ही प्रिय-स्वर से कैसे भर लूँ सजनि! श्रवन?
भूल अभी से इस जग को!
ऊषा-सस्मित किसलय-दल,
सुधा रश्मि से उतरा जल,
ना, अधरामृत ही के मद में कैसे बहला दूँ जीवन?
भूल अभी से इस जग को!

सुमित्रानंदन पंत

सुमित्रानंदन पंत की अन्य प्रसिध रचनाएँ 

  • पल्लव
  • वसंत श्री
  • मोह
  • विनय
  • झर पड़ता जीवन डाली से (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • याचना (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • मौन निमंत्रण (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • परिवर्तन (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • जीवन-यान (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • नक्षत्र (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • बादल (शीघ्र प्रकाशित होंगी)
  • खोलो मुख से घूँघट (शीघ्र प्रकाशित होंगी)

 

Advertisements

5 thoughts on “मोह – सुमित्रानंदन पंत

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s