काव्य की संरचना – विकाश कुमार

काव्यकविता या पद्य, हिंदी साहित्य की वह विधि है जिसमें किसी भावना, तथ्य या कल्पना को कलात्मक रूप से भाषा द्वारा अभिव्यक्त किया जाता है। भारत में कविता का इतिहास और कविता का दर्शन बहुत पुराना है। इसका प्रारंभ भरतमुनि से समझा जा सकता है। कविता का शाब्दिक अर्थ है काव्यात्मक रचना या कवि की कृति, जो छन्दों की शृंखलाओं में विधिवत बांधी जाती है।काव्य वह वाक्य रचना है जिससे चित्त किसी रस या मनोवेग से पूर्ण हो। अर्थात् वह कला जिसमें चुने हुए शब्दों के द्वारा कल्पना और मनोवेगों का प्रभाव डाला जाता है। रसगंगाधर में ‘रमणीय’ अर्थ के प्रतिपादक शब्द को ‘काव्य’ कहा है। ‘अर्थ की रमणीयता’ के अंतर्गत शब्द की रमणीयता (शब्दलंकार) भी समझकर लोग इस लक्षण को स्वीकार करते हैं। पर ‘अर्थ’ की ‘रमणीयता’ कई प्रकार की हो सकती है। इससे यह लक्षण बहुत स्पष्ट नहीं है। साहित्य दर्पणाकार विश्वनाथ का लक्षण ही सबसे ठीक जँचता है। उसके अनुसार ‘रसात्मक वाक्य ही काव्य है’। रस अर्थात् मनोवेगों का सुखद संचार की काव्य की आत्मा है।

कविता या काव्य क्या है इस विषय में भारतीय साहित्य में आलोचकों की बड़ी समृद्ध परंपरा है— आचार्य विश्वनाथ, पंडितराज जगन्नाथ, पंडित अंबिकादत्त व्यास, आचार्य श्रीपति, भामह आदि संस्कृत के विद्वानों से लेकर आधुनिक आचार्य रामचंद्र शुक्ल तथा जयशंकर प्रसाद जैसे प्रबुद्ध कवियों और आधुनिक युग की मीरा महादेवी वर्मा ने कविता का स्वरूप स्पष्ट करते हुए अपने अपने मत व्यक्त किए हैं। विद्वानों का विचार है कि मानव हृदय अनन्त रूपतामक जगत के नाना रूपों, व्यापारों में भटकता रहता है, लेकिन जब मानव अहं की भावना का परित्याग करके विशुद्ध अनुभूति मात्र रह जाता है, तब वह मुक्त हृदय हो जाता है। हृदय की इस मुक्ति की साधना के लिए मनुष्य की वाणी जो शब्द विधान करती आई है उसे कविता कहते हैं। कविता मनुष्य को स्वार्थ सम्बन्धों के संकुचित घेरे से ऊपर उठाती है और शेष सृष्टि से रागात्मक सम्बंध जोड़ने में सहायक होती है। काव्य की अनेक परिभाषाएँ दी गई हैं। ये परिभाषाएं आधुनिक हिंदी काव्य के लिए भी सही सिद्ध होती हैं। काव्य सिद्ध चित्त को अलौकिक आनंदानुभूति कराता है तो हृदय के तार झंकृत हो उठते हैं। काव्य में सत्यं शिवं सुंदरम् की भावना भी निहित होती है। जिस काव्य में यह सब कुछ पाया जाता है वह उत्तम काव्य माना जाता है।

कविता और विचार के अन्त: सम्बन्धों पर चर्चा करते हुए अक्सर इस बात की अनदेखी की जाती रही है कि कविता किसी विचार की संवेदनात्मक अभिव्यक्ति अथवा स्थिति का संवेदनात्मक वर्णन नहीं बल्कि अपने में एक चिन्तन-विधि है – हाइडेगर से शब्द लेकर कहें तो एक प्रकार की ‘मेडिटेटिव थिंकिंग’। इसीलिए कविता में विचार करना और कविता का विचार करना फक्र की बात है। कविता और अन्त: सम्बन्धों समय के को लेकर भी यही कहा जा सकता है कि जो कविता अपने को इतिहास की सेवा में उपस्थित नहीं करती बल्कि आक्टोवियो पॉज के इस कथन का सदैव स्मरण करती रहती है कि प्रत्येक कविता ‘कविता के लाभ के लिए कविता और इतिहास के सामंजस्य् का प्रयास है’, वही इतिहास के लिए भी वास्तविक अर्थों में प्रासंगिक होने की सार्थकता अर्जित कर पाती है।

समय के साथ हिंदी काव्य में लोगों की रुचि काम होने लगी है । इसके कई कारण हैं । पाश्चात्य संस्कृति , अंग्रेज़ी भाषा की लोकप्रियता , आधुनिक यंत्रो में हिंदी भाषा की अवहेलना तथा विध्यालयों के पाठ्यक्रम में हिंदी भाषा की दुर्दशा, हिंदी में रुचि रखने वालों को हीन भावना से देखना आदि प्रमुख कारण बताए जाते हैं । इस कारण वश हिंदी में लिखने वालों की गिनती भी हाथ की उँगलियों पर ही होने लगी है। काव्यशाला एक प्रयास है नव पीढ़ी में इस रुचि को वापस लाने की । हमें बस चाहिए कि हम अपनी नयी पीढ़ी को हिंदी का गौरवपूर्ण इतिहास बताएँ । तब जाके हमारी आने वाली पीढ़ियाँ भी इस भाषा को जान पाएँगी ।

 

विकाश कुमार की अन्य रचनाएँ

शायरी ई-बुक्स ( Shayari eBooks)static_728x90

Advertisements

5 thoughts on “काव्य की संरचना – विकाश कुमार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s