सानवी सरीखी – विकाश कुमार

IMG_8079

मेरी सरल कविता के अक्षर , गर पहुँच पाते अम्बर
तेरी किलकारियाँ हरी भी सुनते, जड़ समान वशिभूत होकर ।

नन्ही नन्ही आँखों से , छुआ डाला मन के भीतर
वो पहली मुस्कान तेरी , उज्जवल कर डाली हर दिशा प्रखर ।

एक कवि की कल्पना तू , एक गीत का तू स्वर
मूर्तिकार की देवी जैसे , ध्यान ना हट पाता शण भर ।

जिस दिवस आयी तू धरा पर, जीवन मेरा गया निखर
तू साक्षात सानवी सरीखी, मैं धन्य तू आयी है मेरे घर ।

                                         – विकाश कुमार
(मेरी दो माह की बेटी सानवी के लिए लिखी गयी)

विकाश कुमार की अन्य रचनाएँ

शायरी ई-बुक्स ( Shayari eBooks)static_728x90

Advertisements

10 thoughts on “सानवी सरीखी – विकाश कुमार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s