कुछ नहीं… – विकाश कुमार

 

जिया भी कुछ नहीं ,
किया भी कुछ नहीं…
वो एक मौज आके यूँ गयी की…
बहा भी कुछ नहीं ,
और रहा भी कुछ नहीं ।

लिया भी कुछ नहीं ,
दिया भी कुछ नहीं ।
रिश्तों का हिसाब करके देखा तो समझा…
ख़र्चा भी कुछ नहीं ,
बचा भी कुछ नहीं ।

कहा भी कुछ नहीं ,
सुना भी कुछ नहीं ।
ज़िंदगी तूने कुछ घाव ऐसे दिए…
हरे भी कुछ नहीं ,
भरे भी कुछ नहीं ।

मंज़िल भी कुछ नहीं,
हासिल भी कुछ नहीं ।
हम अकेले इस सफ़र में…
मिला भी कुछ नहीं ,
गिला भी कुछ नहीं ।

                      – विकाश कुमार

विकाश कुमार की अन्य रचनाएँ

शायरी ई-बुक्स ( Shayari eBooks)static_728x90

Advertisements

9 thoughts on “कुछ नहीं… – विकाश कुमार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s